Mumbai Taj Palace hotel shines blue in honour of Sachin

Sachin Tendulkar

News in Hindi: मुंबई। बस दो दिन और, फिर शुरू होगा पांच दिनों तक चलने वाला वह सफर जिसके खत्म होने के साथ एक युग का अंत हो जाएगा। मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम पर गुरुवार को मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर अपने करियर का आखिरी मैच खेलने उतरेंगे, जाहिर है कि इस मौके पर हर कोई इस महानतम खिलाड़ी को सम्मान देने से चूकना नहीं चाहेगा और इसी कड़ी में अब मुंबई का प्रसिद्ध होटल ताज भी शामिल हो गया है।

वेस्टइंडीज के खिलाफ होने वाले सीरीज के दूसरे व अंतिम टेस्ट के लिए टीम इंडिया के खिलाड़ी मुंबई के गेटवे ऑफ इंडिया के करीब स्थित मशहूर होटल ताज में रुक रहे हैं। ऐसे में भला यह होटल देश के लाडले को सलाम देने से कैसे चूकता। होटल प्रबंधन ने सचिन के सम्मान में पूरे होटल को नीली रोशनी से जगमग कर दिया है। गौरतलब है कि शुरू से वनडे क्रिकेट के जरिए टीम इंडिया का ट्रेडमार्क रंग नीला ही रहा है और जब से वनडे क्रिकेट रंगीन कपड़ों में खेला जाना शुरू हुआ था, तब से अभी तक सचिन ने भारतीय वनडे टीम की हर जर्सी पहनी है (हाल में बदली गई जर्सी को छोड़कर)। इसी लिहाज से ताज होटल ने मास्टर ब्लास्टर के सम्मान में होटल को रोशन करने के लिए नीला रंग चुना।

Source- Cricket News in Hindi

Related- सचिन से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करके उनके विशेष पेज पर जाएं

Advertisements

Sachin to play his last test in Wankhede confirmed

Sachin Tendulkar

(शिवम् अवस्थी), नई दिल्ली। आज से तकरीबन 30 साल पहले जब सचिन रमेश तेंदुलकर के बड़े भाई अजित रमेश तेंदुलकर ने अपने शरारती भाई को व्यस्त करने की ठानी तो उन्हें खींचकर वो सीधे मुंबई स्थित दादर के शिवाजी पार्क ले गए। अजित ने अपने भाई को वहां मौजूद चर्चित क्रिकेट कोच रमाकांत आचरेकर को सौंप दिया, धीरे-धीरे जब आचरेकर ने इस हुनरमंद की प्रतिभा को भांप लिया तो उन्हें मुंबई के ही शारदा आश्रम स्कूल में भर्ती करवा दिया..फिर क्या था, शिवाजी पार्क से शारदा आश्रम और शारदा आश्रम से ऐतिहासिक वानखेड़े स्टेडियम की पिच पर पहुंचने वाले इस खिलाड़ी ने 24 साल वो गदर मचाई जिसने क्रिकेट जगत को हिला कर रख दिया। सपनों को हकीकत में तब्दील करने वाले इस दिग्गज ने मुंबई के जिस स्टेडियम से अपने हुनर को एक पहचान दी, अब वही स्टेडियम उनकी विदाई का भी नजारा देखेगा। सही मायनों में 18 नवंबर को जब देश और खासतौर पर मुंबई का यह लाडला आखिरी बार मैदान पर उतरेगा, तब सिर्फ फैंस की आंखें नम नहीं होंगी बल्कि वानखेड़े का जर्रा-जर्रा भी सदा के लिए उदासीन हो जाएगा। बीसीसीआइ ने सचिन की आखिरी ख्वाइश पूरी करने का फैसला लिया है और अब वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरा व सचिन का अंतिम टेस्ट मुंबई में ही खेला जाएगा।

Source- Cricket News in Hindi

Related-

पढ़ें: सचिन को कुछ इस अंदाज में सम्मान दिया मुंबई इंडियंस ने

पढ़ें: सचिन से जुड़ी अन्य ताजा व पुरानी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Will India be pressurised by Faulkner and Watson in Jaipur ODI

 

James Faulkner(शिवम् अवस्थी), नई दिल्ली। जयपुर का सवाई मानसिंह स्टेडियम तैयार है विश्व की नंबर एक वनडे टीम भारत और दूसरे नंबर की हुंकार भरती टीम ऑस्ट्रेलिया के बीच होने वाले दूसरे वनडे के लिए। बेशक यह भारत का घरेलू मैदान है लेकिन इस स्टेडियम को लेकर कुछ ऐसी दिलचस्प व घातक चीजें हैं जो मेजबान भारतीय टीम के लिए ही मुसीबत खड़ी कर सकती हैं। यह एक ऐसा सच है जिससे अब टीम इंडिया को बचना ही होगा, वरना पहले ही एक मैच हार चुकी धौनी सेना को कंगारू टीम 0-2 से पीछे ढकेलने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी। क्या है कंगारू टीम का यह घातक फॉर्मूला, आइए जानते हैं..

दरअसल, जयपुर का सवाइ मानसिंह स्टेडियम बेशक टीम इंडिया की अपनी जमीन है और फैंस भी अपने ही हैं, लेकिन इस बात को जानकर आपको हैरत होगी कि कंगारू टीम के दो सबसे शानदार ऑलराउंडर्स इस मैदान पर बाकी भारतीय खिलाड़ियों से कहीं ज्यादा खेलने का अनुभव हासिल कर चुके हैं और इसका पूरा श्रेय जाता है आइपीएल और चैंपियंस लीग टी20 को। यह दो खिलाड़ी हैं शेन वॉटसन और जेम्स फॉकनर। यह दोनों कंगारू राजस्थान रॉयल्स टीम का अहम हिस्सा रहे हैं और लगातार इस मैदान पर जलवा बिखेरते आए हैं। चैंपियंस लीग टी20 और आइपीएल मिलाकर राजस्थान रॉयल्स ने लगातार पिछले 13 मुकाबले इस मैदान पर जीते हैं और हर टीम उनसे यहां पर हारकर गई है, जो एक रिकॉर्ड भी है। रॉयल्स के इस पूरे जादुई आंकड़े में फॉकनर और वॉटसन का भी अहम योगदान रहा है, वो भी किसी एक डिपार्टमेंट में नहीं, बल्कि एक ऑलराउंडर के तौर पर।

आइपीएल सीजन 6 में शेन वॉटसन ने इस मैदान पर कई बार जलवे बिखेरे थे जिसमें से जयपुर में नाबाद 98 रनों की पारी और दिग्गज टीम चेन्नई के खिलाफ 70 रनों की आतिशी पारी भी शामिल थी, इसके साथ-साथ वो पूरे टूर्नामेंट में 543 रन बनाने में सफल रहे थे जिसमें अधिकतर रन उन्होंने जयपुर में ही बनाए थे, इसके अलावा उन्होंने टूर्नामेंट में 13 विकेट भी लिए थे, और यहां भी कई बार जयपुर के मैदान पर ही उन्होंने जलवे बिखेरे। हाल ही मैं चैंपियंस लीग टी20 में भी वॉटसन ने जूझती फिटनेस के बीच 6 मैचों में 6 विकेट लिए। वहीं सौ से ऊपर रन भी बनाए। पुणे में खेले गए पिछले मैच में उन्होंने ज्यादा रन तो नहीं बनाए लेकिन गेंदबाजी में वो दो अहम बल्लेबाजों, रोहित शर्मा और विराट कोहली को पवेलियन भेजने में सफल रहे थे जो उनके फॉर्म में लौटने का संकेत माना जा सकता है, जाहिर है कि जयपुर में अनुभव के लिहाज से वो और घातक हो जाएंगे।

Source- Cricket News in Hindi

Related-

पढ़ें: पहले मैच में यूं हारी वनडे चैंपियन टीम

पढ़ें: धौनी को भारी पड़ा कंगारुओं को हल्के में लेना