Bollywood role of -miss havisham from fitoor was earlier offered to-sridevi rekha accepted the offer

Entertainment News:  रेखा बनेगी ‘मिस हविशम’, ग्लैमरस श्रीदेवी को नहीं दिखना बूढ़ा 

चार्ल्स डिकेंस की ‘ग्रेट एक्सपेक्टेशन’ से प्रेरित फिल्म ‘फितूर’ बना रहे अभिषेक कपूर ने श्रीदेवी को एक महत्वपूर्ण भूमिका ऑफर की गई थी। कटरीना कैफ और आदित्य रॉय कपूर अभिनीत इस फिल्म के लिए उन्हें सनकी, अमीर कुंवारी ‘मिस हविशम’ का किरदार करने को कहा गया।

‘इंग्लिश विग्लिश’ से बड़े पर्दे पर वापसी करने वाली श्रीदेवी को शायद यह ग्रे शेड किरदार पसंद नहीं आया। इस किरदार के लिए इस ग्लैरमस एक्ट्रेस को बूढ़ा दिखना था। इसलिए उन्होंने यह ऑफर ठुकरा दिया।

अब खबर है कि निर्माताओं ने रेखा को इस किरदार के लिए संपर्क किया है।

सूत्र के मुताबिक ‘रेखा ने इसके लिए सहमति तो दे दी है लेकिन अभी फिल्म साइन करना बाकि है।’

‘फितूर’ में पहले भी कास्ट में काफी बदलाव किए गए। पहले सुशांत सिंह लीड रोल करने वाले थे लेकिन उन्होंेने शेखर कपूर की ‘पानी’ के लिए इस प्रोजेक्ट को छोड़ दिया और यह रोल आदित्य रॉय कपूर की झोली में गया। अभिषेक इस साल के अंत में इस प्रोजेक्ट पर काम शुरू करेंगे।

Get more- Bollywood News in Hindi

Courtesy: http://naidunia.jagran.com/

Rekha’s love stories

Rekha

रेखा के 5 दीवाने 

 Hindi News:   मुंबई। अभिनेत्री रेखा का रूप करिश्माई है, इस बात से शायद ही किसी को ऐतराज हो। लेकिन उनका जादू जिस तरह फिल्मी दर्शकों पर आज भी चढ़ा हुआ है, वैसा जादू उनके दिल के करीब होने वाले कलाकारों पर क्यों नहीं हुआ? ये सब रेखा के साथ फिल्म करके उनके दिल में उतरे, प्यार के किस्से गढ़े, चर्चा पाए और फिर कुछ समय बाद दूर हो गए। आखिर कौन थे वे?

हम डालते हैं एक नजर उन कलाकारों पर, जिनके साथ रेखा के रिश्ते बने और चर्चा में आए। रेखा की पहली हिंदी फिल्म थी ‘सावन भादो’। सांवली और मोटी दिखने वाली रेखा की यह फिल्म हिट साबित हुई और इसके गीत भी। इस फिल्म के हीरो थे नवीन निश्चल। दोनों ने साथ काम क्या किया, एक रिश्ता बना। बाद में दोनों ने कई फिल्में साथ कीं, तो दोनों की दोस्ती की खबर भी फैली। यह रेखा की पहली प्रेम कहानी थी। इसी क्रम में एक फिल्म आई ‘दो शिकारी’, जिसमें रेखा के हीरो थे विश्वजीत। इसी फिल्म के लिए रेखा ने पहली बार किस सीन दिया था। यह बात तब रातोंरात चर्चा में आ गई, जब तस्वीर एक मशहूर फिल्मी पत्रिका के कवर पर छप गई। कहा जाता है कि अभिनेता विश्वजीत इस बात से बेहद खुश थे, लेकिन रेखा इस सीन को करने के बाद बेहोश हो गई थीं। दरअसल, वे इस सीन के लिए तैयार नहीं थीं, लेकिन फिल्म की जरूरत का वास्ता दिया गया, तो उन्हें यह सीन करना पड़ा। इस फिल्म के बाद रेखा का नाम विश्वजीत के साथ जुड़ा और यह बात लोगों के बीच आ गई कि दोनों साथ काफी समय बिता रहे हैं। इससे नवीन निश्चल आहत हुए। उन्होंने रेखा से दूरी बना ली, पर कुछ ही समय बाद विश्वजीत रेखा से भी दूर हो गए। इसकी वजह बने विनोद मेहरा।

दरअसल बाद की कई फिल्मों में रेखा के साथी कलाकार बने खूबसूरत विनोद मेहरा। वे उनके करीब आई और उनके साथ रेखा ने शादी भी की, लेकिन विनोद मेहरा जैसी चाहत रखते थे, रेखा वैसी साबित नहीं हुई। विनोद की मां को रेखा बहू के रूप में पसंद नहीं थीं। इसके बाद जब रेखा ने विनोद से मां और प्यार में से किसी एक को चुनने को कहा, तो विनोद ने मां को चुना।

विनोद मेहरा की तरह ही रेखा के दीवाने हुए अभिनेता किरण कुमार। किरण कुमार ने रेखा से चुपके से शादी कर घर लाने की योजना बनाई। शादी के बाद रेखा दुल्हन बनकर किरण के घर भी गई, लेकिन तमाम फिल्मों में महिलाओं के साथ अभद्र व्यवहार करने के लिए मशहूर अभिनेता जीवन यानी किरण कुमार के पिता ने रेखा को बतौर दुल्हन अपने घर में प्रवेश करने से मना कर दिया। कहा तो यह भी जाता है कि रेखा को उन्होंने दुल्हन की लिबास में अपने घर की सीढ़ी पर चढ़ने नहीं दिया। इस तरह किरण कुमार भी रेखा से दूर हो गए।

अब रेखा की कहानी बनी अमिताभ बच्चन के साथ। वैसे इनकी पहली फिल्म थी ‘दो अनजाने’। बाद में अमिताभ बच्चन और रेखा की जोड़ी वाली फिल्मों ने दर्शकों में रोमांच पैदा किया। फिल्म चाहे जैसी भी हो, वह दर्शकों के लिए कमाल होती थी। इस जोड़ी की फिल्में तब खूब देखी गई।

एक वक्त वह भी आया जब खबर आई कि अभिताभ बच्चन और रेखा जल्द ही एक होने वाले हैं, लेकिन ऐसा न हो सका। तभी इस जोड़ी की यश चोपड़ा निर्देशित फिल्म ‘सिलसिला’ आई। कहा जाता है कि यश जी ने इस फिल्म की कहानी में बहुत सी उन बातों को रखा, जो इस जोड़ी से जुड़ी थीं जैसे गीत ‘देखा एक ख्वाब तो ये सिलसिले हुए..’ में दो दिलों के ख्वाब के साथ इनके दिलों की धड़कन थी, तो ‘मैं और मेरी तनहाई अक्सर ये बातें करते हैं..’ में एक दूजे के बिना जिंदगी क्या है? इसकी कहानी थी। गीत ‘नीला आसमां सो गया..’ में विरह की बातें थीं, तो ‘रंग बरसे भीगे चुनर वाली..’ में रेखा के अन्य चाहने वालों से यह कहा गया था कि ‘खाए गोरी का यार बलम तरसे..’। यह सभी जानते हैं कि रेखा से अमिताभ के अलग होने के बाद की यह फिल्म थी, जिसमें अमिताभ बच्चन के साथ रेखा और जया बच्चन का प्रेम त्रिकोण था।

Source-  Entertainment News in Hindi

Related-  क्या जरूरत है लब्ज की जब आंखें देती हों साथ

:आखिरकार क्यों की थी रेखा ने मुकेश से शादी?