There are fast and festival in the month of Kartik

एक ऐसा महीना, जिसमें होते हैं सबसे अधिक व्रत और त्योहार

laxmi

हरिद्वार। शरद पूर्णिमा के दिन से वर्षा ऋतु की विदाई और शरद ऋतु का आगमन हो जाएगा। शरद पूर्णिमा के व्रत और स्नान के बाद शुरू हो जाएगा त्योहारों और व्रतों का मास कार्तिक। इस मास में सर्वाधिक त्योहार और व्रत होते हैं। भगवान विष्णु की उपासना का क्रम भी इसी मास से शुरू होता है।

वहीं मास के प्रथम तिथि पूर्णिमा के दिन का अध्यात्मिक दृष्टि के साथ साथ आयुर्वेद की दृष्टि से भी उत्तम माना जाता है।

ज्योतिषाचार्य डॉ. पंडित शक्तिधर शर्मा शास्त्री व दीप्ति श्रीकुंज शर्मा ने बताया कि कार्तिक मास वर्ष का सबसे उत्तम मास माना जाता है।

पूर्णिमा से शुरूआत में चंद्रमा मीन राशि तथा रेवती नक्षत्र में भ्रमण करेगा। गुरुवार को सूर्य संक्रांति से सूर्य तुला राशि में नीतगत प्रविष्ट हुए हैं जहां शनि और राहु पहले से ही विराजमान हैं। सूर्य के तुला राशि में प्रवेश के साथ ही शरद ऋतु का आगमन होता है। इसी दिन से वर्ष के प्रमुख त्योहार और महत्वपूर्ण व्रत भी शुरू हो जाते हैं।

सबसे पहले पूर्णिमा व्रत व स्नान, करवा चौथ व्रत, अहोई व्रत, रमा एकादशी व्रत, गोवत्स द्वादशी, धनतेरस पर्व, नरक चतुर्दशी व हनुमान जयंती, दीपावली पर्व, अन्नकूट महोत्सव व गोवर्धन पूजा, यम द्वितीया या भैया दूज, छठ पूजा महोत्सव और देवोत्थान एकादशी व्रत। ये प्रमुख त्योहार और व्रत इसी मास में आते हैं।

Source- News in Hindi

क्या आप जानते हैं, कार्तिक स्नान की महत्ता क्या है?

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s